Ruby Arun

Friday, 5 August 2011

बच के दुनिया की निगाहों से खता कर तो लूँ .....
अपनी नज़रों से मगर ...खुद को गिराऊ कैसे.......

No comments:

Post a Comment