Ruby Arun

Friday, 5 August 2011

मेरे इश्क का अदब है तु.....मेरी धडकनों का सबब है तु...
मेरी दुआओं का सिला है तु....बड़ी इबादतों से मिला है तु.....
.मुझे फ़क़त है तेरी आरजू.........
तु मेरी बेखुदी...मेरी तिश्नगी ....मेरी आशिकी....मेरी बंदगी.......♥

No comments:

Post a Comment