Ruby Arun

Friday, 5 August 2011

जिद में आये तो टांकों की उड़ा दी धज्जियां .......
होश में आये तो काँटों से ज़ख्म सीने लगे ............

No comments:

Post a Comment