Ruby Arun

Friday, 5 August 2011

डूबी हैं ...मेरी उँगलियाँ ...मेरे ही ...लहू से......
ये कांच के टुकड़ों पर........भरोसे की सजा है............

No comments:

Post a Comment