Ruby Arun

Friday, 5 August 2011

हम तो अपनी रूह ...तेरे जिस्म में छोड़ आये हैं ....
तुझे गले से लगाना तो.......महज़ इक बहाना था.....

No comments:

Post a Comment