Ruby Arun

Friday, 5 August 2011

कहीं आके मिटा ना दे वो इंतज़ार का लुत्फ़.....
कहीं कबूल ना हो जाए ये इल्तिज़ा मेरी................

No comments:

Post a Comment